ज्ञान की प्रकृति | Nature of knowledge

ज्ञान की प्रकृति एवं प्रकार | Nature of knowledge in Hindi | Nature of knowledge and the implication for teaching


ज्ञान की प्रकृति:

ज्ञान की प्रकृति को ज्ञान की विशेषताओं के माध्यम से समझा जा सकता है । ज्ञान की विशेषताओं को समझने हेतु ज्ञान के सिद्धान्त भी पता होने चाहिएँ । ज्ञान के शाब्दिक अर्थ से भी ज्ञान की प्रकृति को स्पष्ट रूप से समझा जा सकता है । ज्ञान की विशेषताएँ व प्रकृति इस प्रकार हैं ---

1 . ज्ञान में शक्ति है , ताकत है । 

2 . ज्ञान कभी भी समाप्त नहीं होता । 

3 . ज्ञान सत्य तक पहुँचने का साधन है । 

शिक्षण सूत्र अथवा शिक्षण युक्तियों की जानकारी के लिए क्लिक करें




4 . ज्ञान धन की तरह है , जितना एक मनुष्य को प्राप्त होता है , वह उतना ही ज्यादा पाने की इच्छा करता है । । 

5 . ज्ञान प्रेम तथा मानव स्वतन्त्रता के सिद्धान्तों का ही आधार है । 

6 . ज्ञान क्रमबद्ध बढ़ता रहता है , एकदम अचानक से नहीं मिल जाता । 7 . ज्ञान की कोई सीमा नहीं होती । 

8 . ज्ञान की पुष्टि की जा सकती है । 

9 . ज्ञान सुनिश्चित है । 

10 . तथ्य तथा मूल्य ज्ञान के आधार माने जाते हैं । 

11 . शब्दों के अर्थ , शर्ते , विचार ज्ञान के आधार के रूप में कार्य करते हैं । 

12 . सूचना ज्ञान का स्रोत है । 

13 . धर्म की भाँति ज्ञान को जानने के लिए अनुभव करने चाहिएँ ।

14 . ज्ञान की अमूर्त प्रकृति 
                                      अभी तक , आप समझ गए होंगे कि ज्ञान साझा रूप में प्राप्त की गई समझ है , यह दो विचारों के बीच न्यायसंगत सच्चाई या समझौता है । यह विशेषता ज्ञान की अमूर्त प्रकृति की है ।

15. ज्ञान की सामाजिक प्रकृति 

                                       ज्ञान सामाजिक रूप से साझा की गई समझ है . क्योंकि यह समाज के सामुदायिक सदस्यों के सामूहिक लक्ष्य के माध्यम से विकसित किया गया है । व्यक्तियों को अपने अनुभव से बहुत अधिक ज्ञान प्राप्त होता है , साथ ही वे अपने साथी मनुष्य के साथ मिलकर ज्ञान का निर्माण करते हैं । इसलिए ज्ञान को समाज से ही प्राप्त किया जाता है और निर्माण किया जाता है , और इसकी जड़े मनुष्य की सामाजिक गतिविधियों में ही निहित होती हैं । इसलिए ज्ञान चरित्र में अनिवार्य रूप से सामाजिक है ।

16. ज्ञान संचयी है 
                          ज्ञान की प्रकृति संचयी है क्योंकि यह सामाजिक रूप से संरक्षित है और एक पीढ़ी से भविष्य की पीढ़ियों तक जाती है । वास्तविकता की नई समझ , वास्तविकता के ज्ञान की सहायता से यह पीढ़ियों में निरंतर विकसित है । इस तरह , अधूरी समझ वास्तविकता की पूरी समझ की ओर ले जाती है । ज्ञान न केवल जोड़कर बल्कि पहले से मौजूद ज्ञान को सुधारने की प्रक्रिया के माध्यम से विकसित होता है । 

17. ज्ञान सीमित और सीमा से परे दोनों है 
                                                         ज्ञान का संचयी चरित्र हमें ज्ञान की सीमा और असीम प्रकृति दोनों को सूचित करता है । मानवता के विकास में किसी विशेष स्तर पर , ज्ञान उपलब्ध अनुभव के सीमित चरित्र और ज्ञान प्राप्त करने के मौजूदा साधनों द्वारा निर्धारित सीमाओं के विपरीत आता है । इसलिए , ज्ञान हमेशा सीमित होता है , और एक ही समय में असीम है । दूसरे शब्दों में , ज्ञात हमेशा अज्ञात से घिरा होता है लेकिन अनजान नहीं है । 



18. ज्ञान प्रेक्षक है 
                         ज्ञान केवल बाह्य उद्देश्यों की वास्तविकता की व्याख्या नहीं करता है ; यह अनुभव द्वारा निर्धारित सीमाओं के भीतर वास्तविकता को तैयार करता है । यह केवल चरित्र में व्याख्यात्मक नहीं है , बल्कि यह चरित्र और प्रकृति में निर्वचनात्मक है । इसकी एक सामाजिक संदर्भ में विवेचना की जाती है । ज्ञान की निर्वचनात्मकता का यह अंतर्निहित चरित्र , इसे केवल अवधारणात्मक के बजाय प्रेक्षक बनाता है । ज्ञान ज्ञानदाताओं में दृष्टिकोण परिप्रेक्ष्य विकसित करता है ।

#gyan-ki-prakriti #Nature-of-Knowledge #Nature-of-knowledge-in-education #nature-of-knowledge in-philosophy

Post a comment

0 Comments