तू ही राम है तू रहीम है | tu hi ram hai tu rahim hai | सर्वधर्म प्रार्थना

!! सर्वधर्म प्रार्थना !!


 तू ही राम है तू रहीम है 
 तू करीम , कृष्ण , खुदा हुआ
 तू ही वाहे गुरु , तू ईशू मसीह , 
 हर नाम में , तू समा* रहा ! 

तू ही राम है तू रहीम है , 
तू करीम , कृष्ण , खुदा हुआ

तेरी आयतें* हैं कुरान में , 
तेरा दर्श वेद पुराण में , 
गुरु ग्रन्थ जी के बखान में , 
तू प्रकाश अपना दिखा रहा।

तू ही राम है तू रहीम है , 
तू करीम , कृष्ण , खुदा हुआ , 
तू ही वाहे गुरु , तू ईशू मसीह , 
हर नाम में , तू समा रहा , 

विधि, देश, जाति के भेद से,
 हमें मुक्त कर हे परमपिता
तुझे देख पाएं सभी में हम
 तुझे देख पाएं सभी जगह

तू ही राम है, तू रहीम है , 
तू करीम , कृष्ण , खुदा हुआ , 
तू ही वाहे गुरु , तू ईशू मसीह , 
हर नाम में , तू समा रहा ।

अरदास है , कहीं कीर्तन , 
कहीं राम धुन , कहीं आव्हन , 
विधि भेद का है ये सब रचन , 
तेरा भक्त तुझको बुला रहा ।

तू ही राम है तू रहीम है , 
तू करीम , कृष्ण , खुदा हुआ , 
तू ही वाहे गुरु , तू ईशू मसीह , 
हर नाम में , तू समा रहा।

तू ही ध्यान में , तू ही ज्ञान में 
तू ही प्राणियों के प्राण में , 
कहीं आसुओं में बहा तू ही ,
कहीं फूल बन के खिला हुआ।

तू ही राम है तू रहीम है , 
तू करीम , कृष्ण , खुदा हुआ , 
तू ही वाहे गुरु , तू ईशू मसीह , 
हर नाम में , तू समा रहा ।

तेरे गुण नहीं हम गा सकें
 तुझे मन में अपने ना ला सकें
कर दे कृपा तुझे पा सकें
 तेरे दर पर सर ये झुका हुआ

तू ही राम है तू रहीम है , 
तू करीम , कृष्ण , खुदा हुआ , 
तू ही वाहे गुरु , तू ईशू मसीह , 
हर नाम में , तू समा रहा ।

नोट - इस प्रार्थना के गायन के अपने अलग-अलग तरीके हैं अपनी अलग अलग धुन है हर जगह इसे एक नए तरीके से गाया जाता है ऊपर कुछ शब्दों में स्टार (*)लगा है जो कि अलग-अलग जगह पर अलग तरीके से बोले जाते हैं 
जैसे ; -
1- तू समा रहा = तू रमा हुआ
2- तेरी आयतें हैं कुरान में = तेरी जात पाक क़ुरान में।

ऐसे अन्य शब्द भी हो सकते हैं जिनको अलग-अलग जगह पर अलग-अलग तरीके से गाया जाता है । लोग अपनी सुविधा और गायन के तरीके के अनुसार इस प्रार्थना को गाते हैं तो आप यह न समझे कि वह गलत गा रहे हैं या गलत बोल रहे हैं वह सुविधा के अनुसार इसको गाते हैं और कहीं जगह इस प्रार्थना को पूरा नहीं गाते केवल कुछ ही पंक्तियां गायन में इस्तेमाल की जाती हैं।

Post a comment

0 Comments