वो बेवफ़ा क्या हुआ | Wo bewafa kya hua | ParnassiansCafe


वो बेवफ़ा क्या हुआ | Wo bewafa kya hua | ParnassiansCafe




मोहब्बत  में   रातों की  नींद भी  हराम  थी।
वो बेवफ़ा क्या हुआ  मेरा  चैन भी ले गया।।

आँसू  आते  थे  कभी-कभी  उसकी याद में।
ऐसा गया  कि  जाते हुए  नैन  भी  ले गया।।

सूखा रेगिस्तान हो गया है अब हर दिन मेरा।
चाँद चाँदनी के साथ अपनी रैन भी ले गया।।



Mohabbat main raaton ki neend bhi haram thi
Wo bewafa kya hua mera chain bhi ke gaya

Aanshu aate the kabhi- kabhi uski yaad main
Aisa gaya ki jate hue nain bhi le gaya

Sukha registaan ho gaya hai ab har din mera
Chand Chandni ke sath apni rain bhi le gaya

Post a comment

2 Comments