हर देश में तू, हर भेष में तू | Har desh men tu, Har vesh men tu prayer in Hindi | हिंदी विश्व प्रार्थना |


!! हर देश में तू हर भेष में तू !! | Prayer In Hindi | Hindu prayers for all Occasions




हर देश में तू, हर भेष में तू , 
तेरे नाम अनेक, तू एक ही है ,
तेरी रंगभूमि , यह विश्वधरा 
सब खेल में ,मेल में तू ही तो है।





हर देश में तू हर वेश में तू 
तेरे नाम अनेक तू एक ही है ।

सागर से उठा बादल बनकर , 
बादल से गिरा जल हो कर के ,
फिर नहर बनी, नदिया गहरी , 
तेरे भिन्न प्रकार, तू एक ही है ।



हर देश में तू हर वेश में तू 
तेरे नाम अनेक तू एक ही है ।

मिट्टी से अणु परमाणु बना ,
फिर जीव जगत का रूप लिया ,
कहीं पर्वत ,वृक्ष विशाल बना , 
सौन्दर्य तेरा , तू एक ही है ।

हर देश में तू हर वेश में तू 
तेरे नाम अनेक तू एक ही है ।

यह दिव्य दिखाया है जिसने , 
वह है गुरूदेव की पुण्य कृपा ,
हमको कहीं कोई न और दिखा 
बस मैं और तू सब एक ही है ।

हर देश में तू हर वेश में तू 
तेरे नाम अनेक तू एक ही है ।

Post a comment

0 Comments