ये मातम कैसा है। ye matam kaisa hai | Sad Shayari | Lalit Uttrakhandi

Mohbbat men hue barbad to ye matam kaisa hai Parnassianscafe

ये मातम कैसा है। ye matam kaisa hai | Sad Shayari | Lalit Uttrakhandi

Mohbbat men hue barbad to ye matam kaisa hai Parnassianscafe




मोहब्बत में हुए बर्बाद तो ये मातम कैसा है।

हमने बर्बाद लोगों को आबाद होते देखा है।।

                             -ललित कुमार गौतम






Mohbbat men hue barbad to ye matam kaisa hai.


 Humne barbad logon ko aabaad hote dekha hai.


                                   - Lalit kumar gautam

Post a comment

2 Comments