कभी मोहब्बत कभी बेवफ़ाई | Kabhi mohabbat Kabhi Bewafai | ParnassiansCafe




कभी मोहब्बत कभी बेवफ़ाई | Kabhi mohabbat Kabhi Bewafai | ParnassiansCafe



कभी उसके दिल में रहता था
मग़र अब नज़रों से दूर हो गया

जो बेपनाह इश्क़ करता था हमसे
आज वो कितना मज़बूर हो गया

छोड़ दिया साथ बीच सफ़र में
वो बेवफ़ा कितना मग़रूर हो गया

कभी मोहब्बत कभी बेवफ़ाई
ये सब उसका दस्तूर हो गया

लिखकर तेरी मोहब्बत के क़िस्से
वो दीवाना अब मशहूर हो गया

चाँद को पाने की जुस्तजू थी उसकी
यही पागल दीवाने का क़सूर हो गया

कभी इतना क़रीब था वो मेरे
अब उतना ही मुझसे दूर हो गया


Kabhi uske dil mai rehta tha
Magar ab najron se door ho gaya hoon.

Jo bepanah ishq karta tha humseA
Aaj wo kitna mazboor ho gaya

Chood diya sath beech safar mein
Wo bewafa kitna magroor ho gaya

Kabhi mohabbat kabhi bewafai
Ye sab uska dastoor ho gaya

Likhkar teri mohabbar ke kisse
Wo diwana ab mashoor ho gaya

Chaand ko paane ki justzu thi uski
Yahi paagal diwane ka kasoor ho gaya

Kabhi itna kareeb tha wo mere
Ab utna hi mujhse door ho gaya

Visit ShayariStuff.com for happy birthday shayari

Post a comment

0 Comments