मोम सा दिल | Heart of wax | ParnassiansCafe


.
heart of wax | parnassianscafe






वक्त-ए-रुख़सत  दिल  में  कभी    लाया   नहीं   करते।
मोहब्बत करने वाले लोग जुदाई से घबराया नहीं करते।।

बेपनाह   इश्क़   आज    भी   करते   हैं  तुमसे ।
अपने आशिक़ को इस कदर जलाया नहीं करते।।

दिल में जो कुछ भी है बेझिझक कह दो हमसे।
गैरों  को   दिल  के  राज   बताया  नहीं  करते।।

यूं कैद करके ना रख मेरी मोहब्बत को पिंजरे में।
सच्ची मोहब्बत को इतना भी दबाया नहीं करते।।

लोग    छिपाते   हैं    अक्सर    गुनाहों    को   दुनिया   से।
मोहब्बत कोई गुनाह नहीं इसे किसी से छिपाया नहीं करते।।

बड़ा  नाज़ुक   मोम  सा    दिल  है  'ललित'।
मोम को इस तरह आग दिखाया नहीं करते।।



Waqt-e-rukhsat dil me kabhi laya nahi karte.
Mohabbat karne wale log judai se ghabraya nahi karte.

Bepanah ishq aaj bhi karte hain tumse.
Apne aashiq ko is kadar jalaya nahin karte.

Dil me jo bhi hai bejhijhak keh do humse.
Gairon ko dil ke raaj bataya nahin karte.

Yun kaid karke na rakh meri mohabbat ko pinjare main.
Sacchi mohabbat ko itna bhi dabaya nahin karte.

 Log chhipate hain akshar gunahon ko duniya se.
Mohabbat koi gunah nahin ise kisi se chhipaya nahin karte.

Bada najuk mom sa  dil hai Lalit.
Mom ko is tarah aag dikhaya nahin karte.

Post a comment

0 Comments