जुदाई का ज़ख्म | Judai ka jakhm shayari | Parnassianscafe


Judai ka jakhm Shayari | Parnassianscafe





शायद अब   ये जुदाई का ज़ख्म  भर नहीं सकता।
तुम कुछ कर नहीं सकते मैं कुछ कर नहीं सकता।।



Judai ab ye judai ka jakhm bhar nahi sakta 
Tum kuch kar nahin sakte Main kuch kar nahin sakta.

Post a comment

1 Comments